इलाहाबाद विश्वविद्यालय छात्रसंघ चुनाव परिणाम आने के बाद जमकर बवाल हुआ। हास्टल के कमरों और सड़क पर वाहन में आग लगाई गई। बमबाजी में सीओ को भी छर्रे लगे।

कथित छात्रों ने हॉलैंड हॉल के कई कमरों में आगजनी की गई। कथित छात्रों ही नहीं बल्कि छात्र संघ के नवनिर्वाचित अध्यक्ष उदय और पूर्व अध्यक्ष अवनीश यादव का भी कमरा फूंक दिया गया है। करीब सात कमरों में आगजनी के बाद कई हॉस्टल के अंत:वासी रॉड, हॉकी, लाठी लेकर सड़क पर उतर आए। इसके बाद जमकर बवाल किया। समझाने का प्रयास करने पर पुलिस पर भी पथराव किया गया। इससे पूरे इलाके में अराजकता की स्थिति उत्पन्न हो गई।

काफी देर तक छात्र और पुलिस के बीच गुरिल्ला युद्ध चलता रहा। बवाल को काबू में करने के लिए पूरे शहर के थानों की फोर्स बुला ली गई। आरएएफ और पीएसी के जवान भी छात्रों का आक्रोश देख बैकफुट पर आ गए। एसएसपी, एसपी सिटी, सीओ समेत कई थाने की फोर्स घंटों तक उपद्रवी छात्रों को समझाने का प्रयास करते रहे। किताब, शैक्षणिक दस्तावेज जलन से छात्रों की नाराजगी बढ़ गई तो सड़क पर खड़े कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया गया। फायर बिग्रेड की टीम मौके पर पहुंची और किसी तरह आग को बुझाया, लेकिन तब तक काफी सामान स्वाहा हो चुका था।

परिणाम के बाद हुए भारी बवाल ने पुलिस के दावों की भी पोल खोल दी। पुलिस अधिकारी छात्रसंघ चुनाव को लेकर पुख्ता इंतजाम करने का दावा कर रहे थे। दिन में एडीजी, आइजी से लेकर एसएसपी तक हर पल की नजर रखते हुए कॉलेजों का दौरा करते रहे। उपद्रवियों के खिलाफ दर्ज होगी रिपोर्ट :

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि हॉस्टल से लेकर बाहर तक बमबाजी और आगजनी करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो सका है कि आग किसने लगाई है, लेकिन बवाल चुनावी रंजिश में हुआ। अस्पताल पहुंचे सीओ, इंस्पेक्टर को देखने के लिए उच्चाधिकारी भी पहुंचे। एसएसपी नितिन तिवारी का कहना है कि बवाल करने वालों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

Leave a Reply